fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar

समय और समाज की नब्ज टटोलते व्यंग्य

नीरज दइया
धन्य है आम आदमी (2021) व्यंग्यकार फारूक आफरीदी का दूसरा व्यंग्य-संग्रह है। उनके पहले संग्रह मीनमेख (1998) से काफी अन्तराल के बाद यह संग्रह आया है। इस बीच आपका व्यंग्य संग्रह बुद्धि का बफर स्टॉक नाम से आने वाला था, किन्तु प्रकाशित नहीं हो सका। सद्य प्रकाशित संग्रह में 41 व्यंग्य रचनाएँ शामिल हैं। पहली रचना का शीर्षक बुद्धि का बफर स्टॉक है। शीर्षक व्यंग्य धन्य है आम आदमी को इसके बाद दूसरे स्थान पर रखा गया है। वैसे किसी शीर्षक रचना को संग्रह में किस क्रम पर दिया जाए, इसका कोई निर्धारित नियम-कानून नहीं है। अनेक जगह यह भी हुआ है कि पुस्तक का जो शीर्षक है उस नाम से संग्रह में कोई रचना नहीं होती है। किन्तु यहाँ जो शीर्षक है वह संग्रह में संकलित रचनाओं के केन्द्रीय स्वर को व्यंजित करने वाला है। साथ ही यह शीर्षक पाठकों को आकर्षित करता है कि व्यंग्यकार फारूक आफरीदी आम आदमी को धन्य क्यों कह रहे हैं। व्यंग्यकार का आम आदमी को प्रमुखता देना कोई आम बात नहीं है। भक्त कवि कुम्भनदासजी ने बेशक कहा हो कि संतन को कहा सीकरी सों काम, पर आम आदमी की बात करने वाले हमारे व्यंग्यकार तो स्वयं ही सीकरी से करीबी जुडाव रखते हैं और उनकी पनहियाँ वर्षों से सही-सलामत है। वे अपनी इसी पनहियाँ को दुसाले में लपेट कर व्यंग्यकार के रूप में चलाते रहे हैं और फिलहाल सीकरी ही उनका ठिकाना है।
सूचना और जनसम्पर्क विभाग के पूर्व संयुक्त निदेशक फारूक आफरीदी वर्तमान में मुख्यमंत्री के विशेषाधिकारी हैं। आफरीदी वर्षों से विविध विधाओं में एक लेखक के रूप में सक्रिय रहे हैं। अन्य विधाओं की तुलना में व्यंग्य लेखन जोखिम भरा इसलिए है कि इसमें रचनाकार जो भी बात कहता है उसे उसके काम और आस-पास की दुनिया से जोड कर देखा-परखा जाता है। यह अकारण नहीं है कि धन्य है आम आदमी में एक व्यंग्यकार के रूप में फारूक आफरीदी की चिन्ताओं के केन्द्र में लेखकों की दुनिया के साथ-साथ बदलती सत्ता और समाज के अनेक पक्ष हैं। इन रचनाओं में व्यक्ति और सत्ताओं के बदलते स्वभाव का आकलन है वहीं जो गलत है और ठीक नहीं है उस पर निशाने साधते हुए जिम्मेदारी और बेबाकी से अपनी बात कहने का हौसला है। संग्रह की पहली रचना का आरम्भिक अँश देखें-
बुद्धिराम का यह कहना सौ टका शुद्ध है कि भगवान ने आदमी को जो बुद्धि दी है, उसका वह जबरदस्त दुरुपयोग कर रहा है। ऊपर वालों को सारे बुद्धिजीवियों की बुद्धि का बफर स्टॉक कर लेना चाहिए। मान लो ऊपर वाला दूसरे कामों में व्यस्त हो अथवा लगता हो कि अभी यह उनकी प्राथमिकता नहीं है तो यह काम प्राइवेट सेक्टर को आसानी से सौंपा जा सकता है। प्राइवेट सेक्टर का जब सारे टीवी चैनलों पर कब्जा है तो यह एक चुटकीभर काम है। वैसे भी आजकल सरकार अपनी दूसरी बडी जिम्मेदारियों को देखते हुए निजी क्षेत्र को सारे उपऋम सौंपकर अपने दायित्व से पल्ला झाड रही है। (पृष्ठ-7)
यहाँ न केवल अपने समकालीन समय और उसके सामाजिक सन्दर्भों के प्रति गहरे सरोकार हैं वरन् पाठकों के लिए भाषा में उत्सुकता और कौतूहल भी जबरदस्त है। व्यंग्यकार अपनी बात को हौले-हौले जाहिर करते हुए जैसे सत्य को उजागर करते हुए पहले हमें उससे धीरे-धीरे जोडता है। यह पाठकीय जुडाव ही एक गति देते हुए किसी दिशा और सोच के लिए प्रेरित-प्रोत्साहित करता है। यहाँ बात किसी घटना-प्रसंग अथवा स्थिति के सही और गलत रूप की नहीं है। असल में व्यंग्यकार को जो कुछ गलत प्रतीत हो रहा है अथवा वास्तव में जो गलत है, उसे कहने का जोखिम उठाना बडी बात है। वह किसी विषय के लिए एक बार व्यंग्य लिखकर इतिश्री करने वालों में नहीं है, इसके लिए एक ही विषय पर अनेक बार प्रहार करना भी उसे मंजूर है।
इन व्यंग्य रचनाओं के प्रमुख घटक के रूप में हम प्रयुक्त भाषा को रेखांकित कर सकते हैं। भाषा का सही और सटीक प्रयोग ही पाठकों को उन मुद्दों पर विचारशील-विवेकवान बना सकता है। सहमति-असहमति के अवसर को रखते हुए व्यंग्यकार व्यंग्य के मूल उद्देश्य अपने समय और समाज की विसंगतियों को उजागर करना नहीं भूलता है। व्यंग्यकार के भीतर स्थितियों को परिवर्तित करने की अभिलाषा के साथ-साथ जनमत को किसी बदलाव के लिए जाग्रत-प्रेरित करना भी है। माना कि व्यंग्य में व्यंग्यकार का यह कहना- आजकल सरकार अपनी दूसरी बडी जिम्मेदारियों को देखते हुए निजी क्षेत्र को सारे उपऋम सौंपकर अपने दायित्व से पल्ला झाड रही है। पर्याप्त नहीं है, किन्तु गौर करेंगे तो समय पर किसी पक्ष में अपनी उपस्थिति दर्ज कराना ही सही होता है। क्योंकि जो तटस्थ हैं, समय लिखेगा उनके भी अपराध। एक रचनाकार के लिए कुछ कहने और लिखने के अतिरिक्त कुछ नहीं है, उसी में वह आम आदमी के लिए कुछ कर सकता है। वैसे स्वयं लेखक भी कोई बहुत विशेष या खास आदमी नहीं होता है, वह भी एक आम आदमी है और आम आदमियों के बीच ही रहते-रचते हुए खटता है।
लेखक को बुद्धिजीवी कहा जाता है और व्यंग्यकार फारूक आफरीदी का मानना है कि बुद्धिजीवी ताक-झाँक करते हुए बवेला मचा देते हैं। अस्तु निडर, निर्भीक होकर व्यंग्य में बेबाकी से अपनी बात कहना इस संग्रह की विशेषता है। यह अंश भी देखें- बुद्धिजीवियों ने देशभक्तों और देश दोनों को दांव पर लगा दिया है। इससे देश की दुनिया में बेवजह थू-थू होती है। आसान बातें भी इन लोगों की समझ में नहीं आती कि सरकार माई-बाप होती है। सरकार की हर बात का सम्मान करना चाहिए अन्यथा जीते जी नरक का भागी बनना पडेगा। (पृष्ठ-8) अथवा शीर्षक व्यंग्य का यह आरम्भिक अंश लें- राम खिलावनजी हमारे क्षेत्र के प्रिय नेता हैं। बस, एक मामूली सी दिक्कत है कि उन्हें चुनाव जीतने के बाद एकांतवास पर जाने की आदत है। आम चुनाव आने पर वे अपनी कुर्सी से अधिक अपने मतदाताओं को प्यार करने लगते हैं। चुनाव की घोषणा से लेकर मतदान तिथि के स्वर्णिम काल में वे अपने मतदाताओं को तमाम खुशियाँ बाँट देना चाहते हैं। इसमें वे अपनी जान लगा देते हैं। (पृष्ठ-10) कहना होगा कि आम आदमी को सजग सचेत करते हुए व्यंग्यकार कोई बहुत नई और अनोखी बात नहीं कह-कर रहा है, किन्तु वह जो कह-कर रहा है वह समसामयिक और प्रासंगिक है।
फारूक आफरीदी के इस संग्रह में अनेक प्रयोग भी देखे जा सकते हैं जिसमें वे ना केवल भाषा के स्तर पर प्रयोग करते हैं वरन शिल्पगत प्रयोग भी करते हैं। पत्र-शैली, संवाद शैली, डायरी शैली, प्रश्नोत्तर शैली के साथ ही दृश्यों का कोलाज भी इस संग्रह की व्यंग्य रचनाओं को महत्त्वपूर्ण बनाता है। उदाहरण के लिए उमंग भरे उठावने की बात करें तो इसमें एक संपादक ने उठावने पर व्यंग्य भेजने की माँग को बहुत प्रभावी ढँग से उठाते हुए पाँच दृश्यों का जो कोलाज प्रस्तुत किया है वह विशेष उल्लेखनीय है। हमारे समय में संवेदनाओं के पतन और संवेदनहीनता के अनेक उदाहरण संग्रह के अन्य व्यंग्य भी प्रस्तुत करते हैं। यही नहीं यहाँ व्यक्ति की निर्लज्जलता और फिटाई को भी व्यंग्यकार ने अनेक जगह उजागर किया है। यान्त्रिक होते हमारे समाज की विडरूपता के कुछ चित्र फेसबुक की फनाफन दुनिया और सरकार से साक्षात्कार जैसे व्यंग्य प्रस्तुत करते हैं।
यथा प्रजा तथा राजा का यह अंश देखें- भ्रष्टाचार ने तत्काल मुझे टोका- धीरे बेटा धीरे, इतनी तीव्र वाणी में हमारा उद्घोष शोभा नहीं देता। इससे तुम ख्वामखाह पर्दे के पीछे हमारे यज्ञ में आहुति देने वाले शरीफ लोगों से हमारा वैर बढा दोगे, उन्हें बेवजह नाराज कर लोगे। कभी चुप रहना भी लाभदायक होता है। (पृष्ठ-43) सजीव संवाद और सीधी बात करने का हुनर अनेक व्यंग्य रचनाओं में देखा जा सकता है। मतदाता के नाम विधायक जी का पत्र अथवा सफलता का कोडवर्ड में सभी स्थितियों को सामान्य रूप से प्रस्तुत करते हुए असामान्य होते जा रहे समय-समाज को प्रस्तुत किया गया है वहीं वे लेखक हैं जो लिखते-लिखते हैं पढते नहीं जैसे व्यंग्य अपनी करुणा से हमें दूर तक बहा ले जाने में सक्षम हैं।
कोरोना के डर से दुनिया में भले ही बदलाव दृष्टिगोचर हो रहा हो, भलाई करने वालों का पलडा भारी होता जा रहा हो, सहिष्णुता बढ रही हो, मानवता के प्रति लोगों का झुकाव हो, एक-दूसरे के दुःख-दर्द को बाँटने की भावना विकसित हो रही हो, लेकिन सत्ता पिपासुओं को उनका पॉजिटिव रोल नहीं सुहाता। सत्ता पिपासु इसमें अपने को असुरक्षित पाते हैं। इसलिए बन्धु! सत्ता सुखवीरों ने भुजबल और धनबल दोनों को साध लिया है। उन्हें बडे प्यार और जतन से पाला-पोसा जा रहा है। मानव-सेवा के इतर उनके चरित्र को अब नया रंग-रूप देने और नई भूमिका में सामने लाने के लिए तैयार किया जा रहा है। साम्राज्यवाद नए अवतार में फिर लौट आया है। सत्ता पिपासुओं की भूख और गहरी हो गई है। इस भूख को मिटाने में धनबल और भुजबल ही हैं जो इनके सत्ता सम्वर्द्धन में अपनी महती भूमिका निभा सकते हैं। (पृष्ठ- 89) व्यंग्य धनबल और भुजबल नई भूमिका में के साधुराम का यह कथन किसी भी अतिरिक्त व्याख्या अथवा विस्तार की अपेक्षा नहीं रखता है।
संग्रह के अनेक विषयों के विविध पक्षों पर हमें व्यंग्यों में ऐसे अनेक पंच वाक्य मिलेंगे कि हम व्यंग्यकार के सम्मोहन में बँधते चले जाते हैं। साथ ही इस संग्रह में हमारे समय के अनेक ऐसे विषयों पर व्यंग्य हैं जिन पर अन्य व्यंग्यकारों ने भी कलम चलाई है और उनको कुछ विद्वान घिसे-पिटे विषयों की संज्ञा देते हैं। विषय पुराना हो या नया उसके साथ लेखक ने किस प्रकार भाषा का बरताव करते हुए प्रस्तुत किया है यह महत्त्वपूर्ण होता है। व्यंग्यकार के सामाजिक सरोकार यदि पाठकों को प्रभावित करते हैं तो वह सफल रचनाकार कहा जाता है और इस मामले में हम समाज-सत्ता के बीच एक लेखक फारूक आफरीदी की दुनिया कैसी है वह रचनाओं के माध्यम से जान-परख सकते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो आम आदमी की दुनिया कैसी है? यह जानना सच में बेहद सुखद है कि इन व्यंग्य रचनाओं में उम्मीद का स्वर शेष है। जहाँ विद्रूपताएँ और विसंगतियाँ हैं वहाँ आशा और उम्मीद रखते हुए लगातार रचना इन व्यंग्य रचनाओं का सबल पक्ष है।
यह संग्रह हमारे सामने अपने समय और समाज की सच्ची तस्वीर प्रस्तुत करते हुए आम आदमी के जीवट और जुझारूपन को धन्य-धन्य कहते हुए कामना करता है यह संसार सुन्दर हो। ऐसा संसार जिसमें कुछ कानून-कायदों के साथ थोडा-बहुत आदर्श भी हो। इसलिए यह जरूरी है कि छोटे-छोटे संघर्षों और प्रतिरोधी के स्वरों की पहचान हम कर सकें। संभवतः जीवन-गाडी को पटरी पर बनाए रखने की यही सबसे बडी मुहिम है जो इस व्यंग्य संग्रह के माध्यम से फारूक आफरीदी करते नजर आते हैं। इस कृति को लेखक ने अपनी शरीके हयात दिलकीश बेगम साहिबा को समर्पित किया है और कलमकार मंच ने इसे सुन्दर ढँग से प्रकाशित किया है।

पुस्तक : धन्य है आम आदमी (व्यंग्य संग्रह)
लेखक : फारूक आफरीदी
प्रकाशक : कलमकार मंच, 3 विष्णु विहार,
अर्जुन नगर, दुर्गापुरा, जयपुर-302018
संस्करण : 2021,
पृष्ठ : 126
मूल्य : 180/-

सम्पर्क - सी-107, वल्लभ गार्डन, पवनपुरी, बीकानेर- 334003
ई-मेल : drneerajdaiya@gmail.com,
मो. 9461375668