fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar

साहित्य समाचार

डॉ.कुमुद टिक्कू कहानी प्रतियोगिता प्रविष्टियाँ आमंत्रित
साहित्य समर्था त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका द्वारा आयोजित अखिल भारतीय डॉ.कुमुद टिक्कू कहानी प्रतियोगिता-हेतु प्रविष्टियाँ आमंत्रित हैं। कहानी के साथ,अलग पृष्ठ पर मौलिकता, अप्रकाशित-अप्रसारित होने का प्रमाण पत्र, अपना संक्षिप्त परिचय, पासपोर्ट साइज रंगीन फोटो संलग्न करें.
कहानी के किसी भी पृष्ठ पर अपना नाम,पता अथवा पहचान का कोई भी चिन्ह अंकित न करें अन्यथा प्रविष्टि रद्द कर दी जाएगी. कहानी की दो प्रतियाँ डाक से कार्यालय में भेजें। प्रविष्टियाँ भेजने की अंतिम तिथि 31 मार्च 2021 है. प्रथम पुरस्कार- सम्मान राशि 7000/-रू, द्वितीय पुरस्कार-6000/-रू, तृतीय पुरस्कार-5000/-रू, चुनी हुई श्रेष्ठ कहानियों को भी पुरस्कृत किया जाएगा।
साहित्य समर्था, कार्यालय, ई-311,
लालकोठी स्कीम,
जयपुर-302015(राज.)
कार्यालय दूरभाष-0141-2742027
sahityasamartha@gmail.com
- नीलिमा टिक्कू
शीन काफ निजाम को
राष्ट्रीय गंगाधर अवार्ड
साहित्य अकादमी पुरस्कार एवं राष्ट्रीय इकबाल से सम्मानित उर्दू शाइर शीन काफ निजाम को राष्ट्रीय गंगाधर अवार्ड दिया जाएगा। उडीसा की संबलपुर यूनिवर्सिटी द्वारा वरिष्ठ उडिया कवि गंगाधर मेहर की स्मृति में १९८९ को इस सम्मान की शुरुआत की गई थी। यह अवार्ड विभिन्न भारतीय भाषाओं में कविता के क्षेत्र में दिया जाता है। उर्दू कविता के लिए अब तक अली सरदार जाफरी, संपूरण सिंह कालरा गुलजार, शहरयार और बलराज कौमल को दिया जा चुका है। निजाम इससे पूर्व संस्कृति सौरभ सम्मान, भाषा भारती सम्मान, विद्याश्री सममान, बेगम अख्तर गजल सममान, राजस्थान उर्दू अकादमी के सर्वोच मेहमूद शीरानी और मारवाड रत्न से सम्मानित हो चुके हैं। निजाम को सम्मान यूनिवर्सिटी के 54वें स्थापना दिवस पर दिए जाने वाले इस सम्मान में एक लाख रुपए, प्रशस्ति पत्र और अंगवस्त्र प्रदान किया गया।
-मधुमती डेस्क

अनामिका अनु को 2020 का भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार


रजा फाउण्डेशन ने वर्ष 2020 के लिए भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार पत्रिका कथादेश के जुलाई 2019 में प्रकाशित अनामिका अनु की कविता माँ अकेली रह गयी को देने का निश्चय जूरी सदस्य अशोक वाजपेयी की अनुशंसा पर किया गया। पुरस्कार में 21 हजार रुपये की राशि और प्रशस्ति पत्र यथासमय दिए जाएँगे। भारत भूषण अग्रवाल के परिवार द्वारा स्थापित इस प्रतिष्ठित पुरस्कार को अब रजा फाउण्डेशन दे रहा है। इसलिए रजा फाउण्डेशन ने उसकी संरचना में कुछ परिवर्तन किये हैं- पुरस्कार के लिए अधिकतम आयु सीमा चालीस वर्ष होगी। अगले वर्ष से पुरस्कार किसी एक कविता के लिए न दिया जाकर किसी युवा कवि के पहले कविता संग्रह पर दिया जाएगा।