fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar

जीवन

रोहित ठाकुर
एक साईकिल पर सवार आदमी का सिर
आकाश से टकराता है
और बारिश होती है
उसकी बेटी ऐसा ही सोचती है
वह आदमी सोचता है कि उसकी बेटी के
नीले रंग की स्कूल-डत्र्ेस की
परछाई से
आकाश नीला दिखता है
बरतन मोजती औरत सोचती है
मेजे हुए बरतन की तरह
साफ हो हर
मनुष्य का क्तदय
एक चिडया पेड को अपना मानकर
सुनाती है दुःख
एक सूखा पाा हवा में चक्कर लगाता है
इसी तरह चलता है जीवन का व्यापार।।