fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar

ऋतुराज ः जीवनानुभूतियों का अर्थगर्भित छन्द

डॉ. राजेश कुमार व्यास
ऋतुराज जीवनानुभूतियों की दृश्य लय के इस दौर के अनूठे कवि हैं। उनकी कविताएँ दैनन्दिनी जीवन से जुडी घटनाओं का एक तरह से अर्थ कोलाज है। ऐसे समय में जब कविता निरन्तर वक्तव्य बनती जा रही है, जब बहुत सारी मात्रा में लिखे जाने के बावजूद उसकी लय कहीं दूर जाती दिखाई दे रही है और जब वह समाज के केन्द्र से लगभग गायब-सी हो रही है। ऋतुराज की कविताएँ अपनी विरलता से उम्मीद की किरण है। ऊपर से सहज, सादगीपूर्ण उनका कविता का शिल्प अर्थगर्भित छन्द में इस कदर लुभाता है कि मन करता है, उन्हें पढें और गुनें। गुनते ही रहें। इसलिए कि वहाँ बडी घटनाओं, प्रसंगों और दिखावे की कोई गम्भीर मुद्राएँ नहीं हैं, पर पंक्ति दर पंक्ति जीवनानुभूतियों का राग-अनुराग हैं। भाषिक संरचना और संवेदना के वृहत्तर फलक में उनकी कविताएँ पाठक मन को पढने वाली कविताएँ हैं। मुझे लगता है, हिन्दी कविता में छन्द, लय और तान को अनुभूत करना हो तो ऋतुराज को पढ सम्पन्न हो सकते हैं। इसलिए कि सृजनात्मक अभिव्यंजना की गहराई और विस्तृतता में उनकी कविताएँ हमारे युग की मुखर व्यंजना हैं। यह महत्त्वपूर्ण है कि सादाबयानी में वह सीधे-सीधे संवेदनाओं की गहराई में ले जाते अपूर्व की व्यंजना करते हैं। ’कोड‘ कविता को ही लें। यह ऐसी ही है, जिसमें देखी-सुनी को सर्वथा नए ढंग से पहचान बनाने का कविकर्म है। कविता का उनका वितान देखें -
’भाषा को उलट कर बरतना चाहिए
मैं उन्हें नहीं जानता
यानी मैं उन्हें बखूबी जानता हूँ
...अगर अर्थ मंशा में छिपे होते
तो उल्टा बोलने का अभ्यास
खुद ब खुद अर्थ व्यक्त कर देगा
मुस्कराने में घृणा प्रकट होगी
स्वागत में तिरस्कार‘
कविता का यह वृहत्तर स्पेस है, जिसमें देश-काल को देखने, परखने के नए ढंग में ऋतुराज चुफ -से कविता के उस चर्म पर ले जाते हैं, जहाँ कहन का उनका अर्थ हममें पूरी तरह से रूपान्तरित हो जाता हैं। यहाँ आनन्द कुमार स्वामी का कहा औचक याद आता है, कलाएँ रूपान्तरण हैं। मुझे लगता है, ऋतुराज की कविताएँ भी पाठक को रूपान्तरित कर देती हैं। उन्हें पढने के बाद पाठक वह नहीं रहता, जो पहले था। माने वह पूरी तरह से कविता के रस में रूपान्तरित होता समय संवेदना के मर्म का साक्षी हो जाता है। शायद इसलिए कि उनकी कविता का शिल्प व्यक्त में निहित अर्थ संकेतों का विरल भव है।
’नागार्जुन सराय‘ कविता पढेंगे, तो लगेगा वह कविता में जीवन रचते हैं। नागार्जुन के कवित्व पर, उनके व्यक्तित्व पर वृहद उपन्यास, संस्मरणनुमा भी कोई लिखे तो कम पडे, परन्तु ऋतुराज की उन पर लिखी यह कविता गद्य की तमाम विधाओं के रसों को अपने में समाए कविता की आधुनिकी में काव्य परम्परा का अनूठा छन्द है। ’पूंछ-उठौनी नन्हीं चिडया‘ के बहाने नागार्जुन का यह विरल शब्द चितराम है, जिसमें ’अरी, तू जानती है इन्हें?‘ जैसी मधुर व्यंजना में भावनाओं का अनूठा भव रचा गया है। ऋतुराज की कविताओं की बडी विशेषता है। वे शब्द-शब्द ओज में कहन के अपने माधुर्य में भावों का विरल पाठ बँचाते हैं।
अपनी चुनी हुई कविताओं के संग्रह में ’कवि ने कहा‘ में ऋतुराज ने अपना आलोचक स्वयं बनते अरसा पहले भले यह लिखा है कि उनकी कविताएँ क्रियात्मक कम प्रतिक्रियात्मक ज्यादा है। यह भी कि यथार्थ का बेहद सरलीकरण वहाँ है और यह भी कि समय का प्रत्युत्तर होने की बजाय फेंटेंसी, रूपक, प्रतीक, बिम्ब आदि इतर साधनों का इस्तेमाल उन्होंने कविताओं में किया है, परन्तु उनकी कविताओं का सच यही नहीं है। मुझे लगता है, उनकी कविताएँ चीजों, व्यक्तियों और जीवन को सर्वथा नए ढंग से देखने को संस्कारित करने का एक तरह से पाठ है। नरेश सक्सेना के शब्द उधार लेकर कहूँ तो उनकी कविताएँ लोकगीतों की तरह सरल और संगीत की तरह सहज ऐसी हैं, जो पाठक के भावबोध का एक तरह से परिष्कार करती है। याद है, अरसा पहले उनके निवास पर ही उनसे कविता और इतर विषयों पर लम्बा संवाद हुआ था। तभी सद्य प्रकाशित सप्तक के बाद के प्रतिनिधि कवियों के संकलन ’कवि एकादश‘ की प्रति उन्होंने भेंट की थी। इसमें कविताओं के साथ दिए वक्तव्य में अपनी सृजन प्रक्रिया के बारे में उन्होंने लिखा है, ’’...मैंने अपनी सभी कविताएँ घर के बाहर लिखी है, खुले में, किसी ऊँची चट्टान पर बैठे या किसी झील के किनारे, घने जंगल में निस्तब्धता में, पशु-पक्षियों आदिवासियों की अपरिहार्य उपस्थिति में... इससे बडा अंतर्विरोध शायद दूसरा न हो कि कविता सब कुछ समेटना चाहती है, मुझे छोडकर।‘‘
यह सच है, उनकी कविताएँ दौर और दायरों का समग्र है। इसीलिए कविता के होने में पाठक वहाँ अपने होने की तलाश कर सकता है। ...और हाँ उनकी कविताएँ सहज उपजी हैं, इसलिए उनमें कृत्रिमता और ओढी हुई बौद्धिकता नहीं है, इसीलिए वह पाठकों में सहज सम्प्रेषित होती भावों के अनूठे भव में अपनी प्रासंगिकता कभी समाप्त नहीं होने देती है।
बहरहाल, ’मैं आंगरिस‘, ’एक मरणधर्मा और अन्य‘, ’कितना थोडा वक्त‘, ’पुल पर पानी‘, ’अबेकस‘, ’नहीं प्रबोधचन्द्रोदय‘, ’सुरत-निरत‘, ’लीला मुखारविन्द‘, ’आशा नाम नदी‘ आदि उनके कविता संग्रहों की कविताओं में सहज पर कहन के विरल अंदाज में संवेदनाओं को संस्कारित करते वह शब्द-शब्द नाद ऐसे भावलोक की निर्मिती करते हैं, जहाँ अर्थ के मर्म उद्घाटित होते हैं। उनकी कविता देखे-सुने और अनुभूत किए की शब्द व्यंजना या समय की साक्षी भर ही नहीं है बल्कि ठहरे पानी में हलचल मचाते उस कंकड की भाँति है, जो अपने होने में जल को पूरी तरह से हिलाकर रख देता है। कविताओं में गूँथी उनकी दृश्य गाथाओं में देखें, अनुभूत किए के चिंतन में घुली कवि मन की आत्मीयता का अपनापा है। मनुष्य जीवन और प्रकृति के विविध रूपों, छवियों और कथन के नए ढंग में हम उन्हें शब्दों के सहारे सुन सकते हैं, सदा के लिए गुन सकते हैं। मुझे यह भी लगता है, सभ्यता के बदले रूपों में वह मानव मन की थाह के कवि हैं। और हाँ, कविताओं की उनकी खास रंगत में परिवेश के आर-पार देखने की अद्भुत क्षमता से भी पाठक अनायास साक्षात् होते हैं।
’कन्यादान‘ कविता को ही ल। भारतीय स्त्री जीवन का जैसे मर्म इसमें उद्घाटित हुआ है। पूरी कविता जितनी व्यक्त है, उतना ही उसमें निहित वह अव्यक्त भी है, जिसमें अर्थ के बहुत सारे आयाम खुलते पाठक को अंदर तक झकझोर देते हैं। कविता में माता के ’प्रामाणिक दुःख‘, ’अंतिम पूँजी‘ के बहाने कन्यादान की भारतीय परम्परा का विरल आख्यान यहाँ हैं तो भावों के उनके अनूठे भव में स्त्री के संघर्ष और बंधनों में जकडे जीवन की मार्मिक व्यंजना है। भाषा की उनकी शक्ति और अभिव्यक्ति की यह क्षमता अद्भुत है।
’लडकी अभी सयानी नहीं थी
अभी इतनी भोली सरल थी
कि उसे सुख का आभास होता था
लेकिन दुःख बाँचना नहीं आता था।‘
कविता की इन पंक्तियों में कवि ही नहीं पाठक मन भी संस्कारित होता जीवन और उससे जुडे सरोकारों से साझा होने, अनुभव करने के सर्वथा नवीन ढंग से साक्षात् होता है। ...यही नहीं अपनी दूसरी कविताओं की ही तरह वह कविता के अंतिम पाठ में अर्थ के चरमोत्कर्ष पर ले जाते, कहन का जैसे मर्म छुआते हैं -
’...माँ ने कहा लडकी होना
पर लडकी जैसी मत दिखाई देना।‘
मुझे लगता है, ऋतुराज की कविताएँ संगीत में किसी राग की मानिंद बढत करती हैं। बहुतेरी बार पाठक को पढने के आनन्द के चरमोत्कर्ष पर ले जाती अपनी पूर्णता को प्राप्त करती वह अपूर्व की अनुभूति कराती है। यह महज संयोग नहीं है कि उनकी कविताओं में संगीत की भाँति धीमे आलाप में स्वरों के नये-नये बनाव, नई उपज, नये विस्तार के अनूठे चित्रों से हम साक्षात् होते हैं।
किशोरी अमोनकर पर लिखी उनकी एक कविता संगीत के उनके सरोकारों में जीवन के मूलभूत प्रश्नों पर ऐसी टिप्पणी है, जिसमें भाषा के अभिव्यंजनात्मक प्रयोग में समय की वेदना को जैसे गहरे से जिया गया है। कविता में ’प्रेक्षागृह खचाखच भरा था/जनसंख्या बहुल देश में/यह कोई अनहोनी घटना नहीं थी।‘ जैसी पंक्तियों में निहित व्यंग्य और फिर ’लो वे आ ही गई/हल्की सी खाँसी और/तुनकमिजाजी जुकाम है/डाँट कर बोली/यह क्या हँसने का समय है?‘ पर गौर करेंगे तो पाएँगे कि सहज बयानी का यह ऐसा मुहावरा है, जिसमें कहन की अनेक तहें खुलती नजर आती हैं। इस कविता में संगीत की उनकी सूक्ष्म सूझ से तो पाठक साक्षात् होते ही हैं, इसके बहाने विसंगतियों भरे जीवन की जैसे थाह भी उन्होंने सहज ली है। वह शिल्प और रचना-प्रक्रिया की मौलिकता में कविता को इसी तरह पठनीय बनाते उसमें संवेदना के अनगिनत अर्थ पिरोते हैं।
ऋतुराज लोक संवेदना के कवि हैं। आदिवासी और जनजातीय जीव से उनका गहरा लगाव रहा है। उन्होंने निरन्तर यात्राएँ की हैं। गाँव, खेत-खलिहान और सुदूर आदिवासी जीवन को नजदीक से उन्होंने देखा है। यह है तभी तो उनका संवेदन मन जंगल में बसे आदिवासी जीवन और वहाँ रहने वाले लोगों के मन की बारीक पडताल करता है -
’उन्हें घर नहीं चाहिए
घर में अँधेरा होता है
अकेले व्यक्तियों का
वे घर की बजाय पेड चाहते हैं
जिस पर तरह-तरह की चिडयाएँ बैठेंगी
और उड जाएँगी।‘
उनके इस कविता कैनवस में शब्द भीतर बसे शब्द के स्वरों का नाद है। उन्हें पढते हुए शब्द दृश्य में जैसे रूपान्तरित हो जाते हैं। मुझे लगता है, उनकी कविताएँ एक तरह सी चीजों, व्यक्तियों और जीवन को नई तरह से देखने का संस्कार प्रदान करती है।
अरसा पहले उनकी एक कविता पढी थी, ’हसरूद्दीन‘। जहन में अभी भी वह जस की तस बसी है। कविता नहीं रूपक। जीवन में जो कुछ है, उसे अँवेरते तमाम अभावों को भुला देते रहने की ’समझ‘ का जैसे अनूठा आलोक इस कविता में है। आम आदमी को केन्द्र में रखते उसके दर्द-अभावों पर बहुतेरी कविताएँ लिखी जा रही है, परन्तु ऋतुराज का कविता मुहावरा जुदा है। कविता के अपने पात्रों के सम्बोधन की लय और शब्द-गुम्फन में निहित विचार इस कदर अर्थगर्भित हैं कि कविता पढने के बाद भी जहन में निरन्तर ध्वनित होती हममें सदा के लिए बस जाती है। सीधे-सरल वह शब्दों की अनूठी लय से साक्षात् कराते कविता के अपने विशिष्ट मुहावरे में पाठक को बाँध लेते हैं। ’हसरूद्दीन‘ कविता का वह विन्यास है, जिसमें रोजमर्रा के जीवन का मार्मिक वर्णन है। व्यक्तियों, चीजों और जीवन का सच वही नहीं है, जो दिखता या कहने से बयां किया जाता है, बल्कि वह है जो दिखने के बाद मन में घटता है... और ऋतुराज संवेदनशील और ऐसे सशक्त कवि हैं। इसलिए परतों के पार भी झाँकते कविता को जीवन का नाद बना देते हैं। कविता की उनकी पंक्तियाँ देखें -
’...वह अपने दर्द में भी
एक कहकहा पिरोता है
उसकी भी एक ’समझ‘ है
और उस समझ से उसका ’समझौता‘ है
...हसरूद्दीन!! तुम्हारे लिए
घर एक झूठा रिश्ता है...‘
ऋतुराज कविता में शब्दों का इसी तरह से नवोन्मेष करते अर्थ की भाँत-भाँत की भंगिमाओं से साक्षात् कराते हैं। ’हसरूद्दीन‘ शीर्षक ही नहीं पूरी कविता में सवाक चलचित्र की मानिंद ध्वनियों और शब्दों का अर्थान्वेषण है। दैनन्दिनी जीवन के घटना प्रसंगों का विरल कविता छन्द है। यहाँ उनके बरते ’समझ‘ और ’समझौता‘ शब्दों और अर्थगर्भित बिम्बों के साथ औचक सीधे-सपाट सब कुछ कहने की उनकी कविता अदा इसीलिए मन को मथती है कि वहाँ कौतुक नहीं रचा जाता। इसलिए कि वहाँ भावनाओं और जीवन से जुडे द्वंद्वों का सम्यक और वस्तुपरक आकलन है। इसलिए भी कि उनकी कविताएँ विविध अनुभवों और संवेगों के रंगों से हमें दीप्त करती है।
यह ऋतुराज ही है, जो कविताओं में आख्यानों की आधुनिकता रचते हैं। ’राजधानी‘ कविता में ’अश्वमेघ‘ और ’रसोई में महायुद्धों की चटपट‘ जैसी व्यंजना में वह कुछ नहीं कहते हुए भी जैसे समय संवेदना में शहराते जीवन के निर्मम सच को उघाडकर रख देते हैं। उनकी बहुतेरी कविताओं में मिथकों के विरल शिल्प हैं। आख्यानों के संदर्भ में वह यथार्थ और वर्तमान जीवन का मार्मिक शब्द चित्र उकेरते हैं। ’दर्शन‘ कविता अपनी व्यंजकता में आधुनिकता से उपजी स्थितियों की चिंताओं का अद्भुत पाठ है तो ’सामान‘ जैसी उनकी कविताएँ परिवेश की व्यंजना में स्थितियों- परिस्थितियों का तटस्थ मूल्यांकन है। रोजमर्रा की जंदगी के अछूते बिम्बों में वह ’फूटने दो फलियाँ फैलने दो बीज‘, ’जो इंजीनियर है/इस विराट वास्तुशिल्प का/दलित की दृष्टि में वह कौतुक है‘, ’अदृश्य मनुष्यों के पाँव छपे हैं/कंक्रीट की सडक पर‘ जैसी पंक्तियों के अर्थ संकेतों में भाषा का वह अनूठा पाठ बँचाते हैं।
’लहर‘, ’शरीर‘, ’कोड‘, ’दर्शन‘, ’जब हम नहीं रहेंगे‘, ’रास्ता‘, ’पाँवों के निशान‘ आदि बहुतेरी उनकी कविताएँ पढने के बाद भी निरन्तर जहन में कौंधती रहती हैं। इसलिए कि इनके रूप-विन्यास में जितना शब्द का बाह्य है, उतना ही आंतरिक भी उद्घाटित हुआ है। कहें, उनकी कविताओं में बरते शब्द, रंग-रेखाएँ और कहन का सहज पर शब्द लय रचते स्वर अतीत, परम्परा और वर्तमान को जीवंत बनाते पाठक को नए अर्थ देते हैं। शब्द वही, जो सभी बरतते हैं परन्तु उनकी संवेदनाएँ और परिकल्पनाएँ इतनी नई और जीवंत है कि कविता पाठक को पुनर्नवा करती मन में सदा के लिए घर करती है। महत्त्वपूर्ण यह भी है ऋतुराज की कविताएँ एकरसता से मुक्त है। उनके सम्पूर्ण कवि कर्म पर जाएँगे, तो पाएँगे भारतीय आख्यानों, मिथकों और हमारी शास्त्रीय परम्पराओं का राग तो वहाँ बहुत-से स्तरों पर है, परन्तु वह जडता लिए कविता का सहारा नहीं है। बल्कि कहें उन्होंने परम्परा की पढत को अपने यात्री मन के विचार वैशिष्ट्य से सँवारा है।
मुझे ऋतुराज का कवि कौशल सुहाता है। इसलिए कि वह शब्दों का अनावश्यक बोझ पाठक पर नहीं लादते। इसलिए भी कि सम्प्रेषण का बगैर कोई आग्रह-पूर्वाग्रह वह सहज-सरल कहन के वैशिष्ट्य में कविता की लय अँवेरते हैं। उनकी कविताओं में घटनाओं के कोलाज हैं, पर स्थूल घटनात्मक का ध्यानाकर्षण नहीं है। मुझे लगता है, वह घटनाओं से उपजी मनःस्थितियों में यथार्थ के निर्मम सच की अनूठी काव्यभाषा रचते हैं। यह महज संयोग ही नहीं है कि कविता में वह राजनीति, धर्म, इतिहास, संस्कृति और परम्परा पर गहन चिंतन करते हैं, पर कविता में इनका ओढा हुआ बौद्धिक लबादा कहीं नजर नहीं आता। स्वतंत्र दृष्टि में वहाँ पाठक से संवाद है, अपनापा है।
कवि, कला समीक्षक और पर्यटन विशेषज्ञता के साथ राजेश अपने राजस्थानी लेखन के लिए साहित्य अकादेमी पुरस्कार से भी नवाजे जा चुके हैं।